योगासन (Part-6) धनुरासन करने के फायदे और तरीका

0
97
धनुरासन करने पर शरीर ‘धनुष’ आकार की तरह दृश्यमान होता है, इसलिए इस आसन को धनुरासन कहा गया है. यह आसन कमर और रीड़ की हड्डी के लिए अति लाभदायक होता है. धनुरासन करने से गर्दन से लेकर पीठ और कमर के निचले हिस्से तक के सारे शरीर के स्नायुओं को व्यायाम मिलता है. अगर इस आसन का अधिकतम लाभ नियंत्रित करना या शरीर सुडौल करना हो, धनुरासन एक अत्यंत गुणकारी आसन है.

यह आसन रीड़ की हड्डी मज़बूत और लचीली बनाता है. सामान्य कमर दर्द दूर कर देता है. धनुरासन करने से शरीर की पाचनप्रणाली मज़बूत बनती है. पेट से जुड़े जटिल रोग जैसे की एसिडिटी, अजीर्ण गैस, खट्टी डकार और सामान्य पेट दर्द दूर होते हैं. धनुरासन से शरीर फुर्तीला बनता है, शरीर पर जमा हुआ फैट/चर्बी कम होने के साथ मोटापा कम करने में मदद करता है. धनुरासन करने से छाती, जांघें और कंधे मज़बूत बनते हैं. स्त्रयों की मासिक चक्र से संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए धनुरासन परम लाभदायी होता है.

हालांकि ये आसन काफी फायदेमंद है लेकिन ध्यान रखें गर्भवती महिलाओं के लिए यह आसन पूरी तरह से वर्जित है. कमर से जुड़ी गंभीर समस्या हों उन्हें यह आसन डॉक्टर की सलाह लेने के बाद ही करना चाहिए. धनुरासन करने पर शरीर के किसी भी अंग में अत्याधिक पीड़ा होने लगे तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं. हो सके तो यह आसन किसी योगा टीचर की निगरानी में सीखकर करें. धनुरासन की समय सीमा धीरे-धीरे बढाएं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here