योगासन (Part-5) मासिक धर्म में अनियमितता को ख़त्म करता है वज्रासन | Mix Pitara

0
63
योगासन की अगली कड़ी में हम आज बात करेंगे वज्रासन की. आप कब्ज की समस्या से परेशान हैं या फिर हो रहे है बढ़ते हुए वजन का शिकार, मासिक धर्म में अनियमितता ऐसे अनेक परेशानियों को खत्म करने का एकमात्र इलाज है वज्रासन.. आइए जानते है कैसे और कब किया जाता है वज्रासन और इससे होने वाले अनेक लाभ क्या है..

वज्रासन एक ऐसा योग आसन है, जिसका आप नित्य अभ्यास कर सकते है. ज्यादातर आसन भोजन के पहले किए जाते है लेकिन यह एक ऐसा आसान है जो भोजन के पश्चात किया जाता है.. वज्रासन करने के लिए एक समतल और साफ जगह पर बैठ जाये. इसे भोजन के कम-से-कम 15 से 20 मिनट के बाद किया जा सकता है. अब आप अपने घुटनों को जमीन पर टिकाकर अपने पैरो पर बैठ जाए. इस तरह के आपके हिप्स आपके पैरो के ऊपर हो. आपके पैर के अंगूठे मिले हुए और आपके दोनों हाथ अपने जांघो पर रखे. इसी मुद्रा में अपने शरीर को एकदम आरामदायक महसूस कराए लेकिन रीढ़ की हड्डी को एकदम सीधा रखे और ग़हरी सांस ले. यह प्रक्रिया कम-से-कम पांच मिनट तक की जानी चाहिए.

वज्रासन का सबसे बड़ा फायदा है वह आपकी पाचन शक्ति को बढ़ाएगा ओर भोजन पचाने में शरीर की मदद करेगा. जिससे कि एसिडिटी, अपच और कब्ज जैसी बीमारियां आपको छू भी नहीं पाएंगी. इतना ही नहीं यह आपकी आंखों की दृष्टि के लिए भी बहुत ही फायदेमंद होता है. सांस पर नियंत्रण होने के कारण इस आसन से उच्च रक्तचाप वालों को काफी फायदा मिलता है और उनका मन स्थिर रहता है. मन मे ठहराव आने के कारण चंचलता समाप्त होती है जिससे कि बुद्धि बढ़ जाती है और याददाश्त मजबूत होने लगती है.

भोजन के बाद यह आसन इसलिए किया जाता है कि खाया हुआ खाना अच्छी तरह पच सके जिससे की अतिरिक्त वजन से छुटकारा मिल जाये. इस आसन में बैठने के कारण जो भी अतिरिक्त चर्बी होती है वह कम हो जाती है. नितंब और कमर सुंदर और आकर्षक दिखाई देने लगते है. जिन महिलाओं को अनियमित मासिक धर्म की समस्या समाप्त हो जाती है. साथ ही यह आसन करने से प्रजनन क्षमता भी बढ़ जाती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here