योगासन (Part-4) मधुमेह, अस्थमा और थाइरोइड जैसे रोगों से बचने के लिए करें भुजंगासन | Mix Pitara

0
39
योग सभी के जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है. योगा व्यायाम का प्रकार है जो, नियिमित अभ्यास के माध्यम से शारीरिक और मानसिक अनुशासन सीखने में मदद करता है. योगा शरीर और मस्तिष्क के संबंधों में संतुलन बनाने में मदद करता है. आइए आज हम आपको ऐसे योगासन के बारे में बताते हैं जिसके रोजाना अभ्यास से मधुमेह, अस्थमा और थाइरोइड जैसे कई रोगों से आसानी से बचा जा सकता है. हम बात कर रहे हैं भुजंगासन की… इसे ‘कोबरा पोज’ भी कहा जाता है, क्योंकि इसमें शरीर के अगले भाग को कोबरा के फन के तरह उठाया जाता है. चलिए जानते हैं भुजंगासन को करने की विधि और फायदों के बारे में…

यह आसन पैंक्रियाज को सक्रिय करता है और सही मात्रा में इन्सुलिन के बनने में मदद करता है. मधुमेह जैसे रोग से बचाता है. यह योगाभ्यास संपूर्ण शरीर में खिंचाव लेकर आता है और यही नहीं शरीर की चर्बी को कम करने में बहुत मददगार है. अगर इस आसान को ठीक तरह से किया जाए तो अस्थमा रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है. इससे फेफड़े में खिंचाव आता है और फेफड़े में ऑक्सीजन की प्रवेश क्षमता बढ़ जाती है.

थाइरोइड एवं पैराथाइरॉइड ग्रंथियों को सक्रिय करने में भी यह योगासन मददगार साबित हो सकता है. यह आसन पाचन शक्ति को सुदृढ़ और प्रबल बनाए रखता है, जिससे कब्ज, अपच, गैस, अम्लीयता जैसे रोगों से छुटकारा मिलता है. गर्भवती महिलाएं, हर्निया और अलसर से पीड़ित रोगी और जिन्हें स्लिप डिस्क की शिकायत हो.. ऐसे लोग इस आसन का अभ्यास न करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here