योगासन (Part-3) सेहत और सौंदर्य के लिए फायदेमंद है शीर्षासन | Mix Pitara

0
59
आज हम आपको बता रहे हैं शीर्षासन के बारे में. शीर्ष का मतलब होता है सिर (माथा) और आसन योगाभ्यास के लिए इस्तेमाल किया जाता है. जितने भी योगाभ्यास है उसमें शीर्षासन को किंग कहा गया है. इसी बात से इसके फायदे और महत्व के बारे में जाना जा सकता है. इस योगाभ्यास के करने से थाइरोइड एवं पारा थाइरोइड अंतःस्रावी गंथियों को स्वस्थ बनाने में मदद मिलती है और हॉर्मोन का सही तरीके से स्राव होने लगता है. मेटाबोलिज्म को नियंत्रित करता है और शरीर के वजन को बढ़ने से रोकता है. आइये जानते हैं शीर्षासन से होनेवाले लाभ के बारे में…

शीर्षासन रोके बालों का गिरना: शीर्षासन बालों को सुंदर बनाता है. शीर्षासन अभ्यास से मस्तिष्क वाले भाग में ऑक्सीजन का प्रवाह अधिक हो जाता है और मस्तिष्क को उपयुक्त पोषक तत्व पहुंचता है. शीर्षासन न केवल बालों के झड़ने को ही नहीं रोकता बल्कि बालों से संबंधित समस्याओं जैसे काले व घने बाल, लंबे बाल, बालों का कम झरना, बालों को सफेद होने से रोकना इत्यादि में काम आता है.

त्वचा के निखार में शीर्षासन: शीर्षासन आपके त्वचा को मुलायम, खूबसूरत और ग्लोइंग प्रदान करता है. इसके अभ्यास से चेहरे वाले हिस्से में खून का बहाव अच्छा हो जाता है और शरीर के पूरे अग्र भाग में पोषक तत्व सही रूप में पहुंचता है.
शीर्षासन मेमोरी बढ़ाने में: इस आसन के अभ्यास से सिर में रक्त का प्रवाह बढ़ता है जिससे स्मृति बढ़ती है. यह आसन तंत्रिका तंत्र को मजबूत करता है. यह एकाग्रता की क्षमता बढ़ाता है तथा अनिद्रा में सहायक है.
शीर्षासन पाचन तंत्र के लिए: यह पाचन तंत्र को मजबूत करते हुए पाचन के लिए लाभकारी है. यह योगाभ्यास यकृत एवं प्लीहा के रोगों में लाभप्रद है

हालांकि शीर्षासन स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद हैं, लेकिन इसे लेकर कुछ सावधानियां बरतनी भी जरुरी है. जिनको उच्च रक्तचाप हो उन्हें यह आसन नहीं करना चाहिए. हृदय रोग से पीड़ित लोगों को इस आसन के करने से बचना चाहिए. सर्दी एवं अत्यधिक जुकाम के हालात में इस आसन को मत करें. कान बहने की शिकायत होने पर भी इस आसन के करने से बचना चाहिए. आरंभ में कम अवधि के लिए यह आसन करना चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here